प्रेम प्यार लव के लिए मोहिनी वशीकरण मंत्र

प्रेम प्यार लव के लिए मोहिनी वशीकरण मंत्र
5 (100%) 8 votes

प्रेम प्यार लव के लिए मोहिनी वशीकरण मंत्र

कोई भी साधक प्रेम प्यार लव के लिए मोहिनी वशीकरण मंत्र साधना का प्रयोग कर अपने प्रेम को प्राप्त कर सकता है| सब कोई इस दुनिया में किसी न किसी चीज़ से प्यार कर बैठता है, वह सोचता है की अगर उसे वह चीज़ या इंसान या फिर भगवन से मिलना भोगने को मिल जाये तो उसके ज़िन्दगी में जो खोखलापन है, वह ख़तम हो जायेगा और वह एक संपन्न ढंग में रह पायेगा। ऐसा कोई शायद ही मिलता है जिसे कुछ भी नहीं चाहिए और जिसे कोई प्यार नहीं करता। कुदरत का नियम है की एक न एक चीज़ तो ज़रूर होती ही है। अगर आप प्यार में किसी को अपना बनाने की ख्वाहिश रखते हैं तो फिर आपके मन में एक अलग ही मन की आग होती है। आप प्यार में लीन होकर चाहें तो पहाड़ तक पर चढ़ जा सकते हैं।

प्यार लव के लिए मोहिनी वशीकरण मंत्र

प्यार लव के लिए मोहिनी वशीकरण मंत्र

पर कई बार लोग इतने खुशकिस्मत नहीं होते, कुछ लोग प्यार करते हैं मगर उनके प्यार का हक़दार उन्हें उतना प्यार नहीं करता या उनकी तरफ आकर्षित नहीं होता है। ऐसे में आपको कोई ऐसा उपाय चाहिए होगा जिसके हिसाब से आप अपने आपसे दूर जाते हुए प्यार को वापस पा सकें, उसे अपने पास बुला लें, अपनी ओर आकर्षित करके उससे भी वही पा सकें जो आप उसके लिए महसूस करते हैं। ऐसे कार्य के लिए आपको मोहिनी मंत्र का उपाय करना चाहिए क्यूंकि वह सबसे असरदार और कारगर होता है, आप पाएंगे की लोग इस प्रयोग से सबसे ज़्यादा आकर्षित होते हैं और वे आपकी ओर खिंचते हुए चले आएंगे। पहला मोहिनी मंत्र जो हम आपके समक्ष रखने जा रहे हैं है साबर मोहिनी जाल वशीकरण मंत्र।

मोहिनी वशीकरण मंत्र विधि:-

इसकी विधि है की आप पहले तो लाल कपडे धारण कर लें, आसन लें जो की कुषा घास और जा कबल का बना हो। इस आसन की दिशा और आपकी यानी साधक की दिशा भी उत्तर की ओर होनी चाहिए। आपको पांच माला करनी होगी जाप की, यानि १०८ बार जपने पर एक माला, और १०८ को ५ से गुणा कर लें तो जितना हुआ उतनी बार करें। यह जप के लिए लाल चन्दन की माला का इस्तेमाल करें, लाल चन्दन की माला का अगर इंतज़ाम नहीं हो पाए तो फिर आप काले हकीक की माला का इस्तेमाल करें।

करें यूँ की जब भी आपको साधना करनी हो सवेरे प्रातः काल उठ जाएं, स्नान करें और बहुत ही साफ़ कपडे पहने – लाल रंग वाले। अब आप जाप से पहले एक कड़वे तेल का दीपक जलाएं, या फिर देसी घी का भी जला सकते हैं। उसके पश्चात जप शुरू कर दें। १६ किस्म का सिंगार पूजा स्थान पर रखें, एक छोटी शीशी इतर की रखें, सात तरह की मिठाई भी रख लें और एक या दो पत्ता पान के पत्ते भी रखें। छोटी इलाइची भी रख लें।

इलाइची और इतर को अलग रखकर बाकी सारी सामग्री पूजा के बाद में उसी लाल कपडे में लपेट कर किसी सुनसान स्थान पर रख आएं या फिर बहती नदी में प्रवाहित कर दें। अगर सुनसान स्थान पर छोड़ें तो वापस मुड़कर पीछे नहीं देखें। मोहिनी वशीकरण शुरू करने के लिए इलाइची के ७ दाने, जिसको भी आप वशीभूत करना चाहते हैं, खिला दें। ध्यान रहे की देने से पहले या खिलते वक़्त आप बताये हुए मंत्र को पड़ना न भूलें।

प्यार लव के लिए मोहिनी वशीकरण मंत्र –

“मोहिनी मोहिनी मैं करा मोहिनी मेरा नाम, राजा मोहा प्रजा मोहा मोहा शहर ग्राम, त्रिंजन बैठी नार मोहा चोंके बैठी को, स्तर बहतर जिस गली मैं जावा सौ मित्र सौ वैरी को, वाजे मन्त्र फुरे वाचा, देखा महा मोहिनी तेरे इल्म का तमाशा ” ||

अगर आप किसी सरकारी अधिकारी के पास जा रहे हों या फिर किसी अफ़सर से कुछ काम कराने जाएं और काम नहीं बन पा रहा हो तो फिर आप वशीकरण जप वाला इतर लगा कर जाएं, आप पाएंगे की वह आपकी बात सुनेगा और आपका काम सफल हो जायेगा। यह है इस छोटी सी साधना की ताक़त की हलका सा काम करने पर इतना वक़्त और मेहनत बचायी जा सकती है। कुछ और चीज़ें इसी में की जा सकती हैं – आप दिए का काजल बना लें और उसे लगाएं तो आप पाएंगे की लोग आपके पास आते ही सम्मोहित हो रहे हैं। आप अगर २१ दिन तक यह जाप रोज़ करेंगे और मन शुद्ध रखेंगे तो आप पाएंगे की लोग आपकी ओर आकर्षित हो रहे हैं। जप के वक़्त तीन मंत्र जोड़ दें – एक गणेश भगवन को, एक गुरु को और एक भैरों भगवन को तो असर और भी बढ़ जाता है।

अगला तरीक़ा पौराणिक युग से जुड़े विष्णु भगवन के मोहिनी अवतार से ज़ुड़ा है – भगवन ने मोहिनी का अवतार मंथन के दौरान निकले अमृत के लिए रखा था। हुआ यूँ की असुर यह अमृत पा गए मगर विष्णु भगवन ने छल से असुर को मोहिनी रूप धारण कर के अमृत पिलाया और उन्हें अमर नहीं होने दिया, पर एक रह गया, उसका सर और धड़ उन्होंने अलग कर दिया – ये राहु और केतु के नाम से जाने जाते हैं – राहु सर और केतु धड़।

शुक्ल पक्ष के गुरुवार को तीन स्फटिक की माला लेकर उनपर “ॐ लक्ष्मी नारायणाय नमः” का जप करना चाहिए। यह जप भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की मूर्ति या प्रतिमा के सामने शुरू करना चाहिए और तीन माह तक प्रत्येक दिन सवेरे और शाम को करना चाहिए। जप के बाद में फल और फूल चढ़ाकर प्रसाद बाँटना चाहिए। अगर आप प्रेमी हैं और आप आपस में आकर्षण बढ़ाना चाहते हैं तो फिर ऐसा करें की यह मंत्र जपें, इसको जपने से आप पाएंगे की आकर्षण दोनों प्रेमियों के बीच बढ़ रहा हैं और परस्पर मेल-मिलाप हो रहा है – “ ॐ कलीम कृष्णाय गोपीजन बल्लभाय स्वाहा “

इस तरह हमने आपके समक्ष आज न-न प्रकार के तरीके रखे जिनसे आप मोहिनी मंत्र का इस्तेमाल करके लव से जुड़ी अलग-अलग दिक्कतों को दूर कर सकते हैं, आप ऐसा करें की कभी भी कोई असमंजस में पड़ें या फिर कोई शंका हो तो हमसे संपर्क करें और मशौरा करें या फिर हमारे तांत्रिक गुरु जी से कृष्ण के बीज मन्त्र की दीक्षा ले लें। यह करने से आप अपने इस कार्य में – जो की है मोहिनी मन्त्र फॉर लव – में सफलता प्राप्त करने के चांस बढ़ा लेंगे क्यूंकि सामने मिली दीक्षा कभी विफल नही होती है। 

मोहिनी वशीकरण का जादू तो सदियों पुराना चलन से है| इसके द्वारा किसी भी पुरुष या स्त्री अपने वश में किया जा सकता है| हमारे तांत्रिक गुरु जी बहुत सी सिद्धिया हासिल कर के इस जादू को अमल में लाया है | कोई भी प्रेमिका या प्रेमी इस जादू का प्रयोग किसी को मनचाहे साथी को अपने वश में कर के हासिल कर सकते है| किसी भी प्रेम लव मैटर के लिए गुरु जी से सलाह लेवे और जीवन प्यार की कमी को पूरा करे|

यदि कोई भी लवर अपने प्रेम/प्यार/लव को पाने के लिए मोहिनी वशीकरण मंत्र साधना का प्रयोग करना चाहता है तो वो हमारे तांत्रिक गुरु जी से सलाह प्राप्त कर अपने प्रेम को पा सकता है| मोहिनी वशीकरण मंत्र एक विशिस्ट प्यार को प्राप्त करने की सिद्ध प्रक्रिया है जिसके द्वारा मनचाहे प्यार को पाया जा सकता है| किसी भी मंत्र सिद्धि को प्रयोग में लेने से पहले एक बार अवश्य गुरु जी से उपयुक्त जानकरी प्राप्त कर लेवे|